इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

गुरुवार, 30 दिसंबर 2010

नूतन वर्ष में अनुकरणीय....

       लड लें,       झगड लें.
     पिट जाएँ,     पीट दें.
     किन्तु बोलचाल बन्द ना करें.


      क्योंकि बोलचाल बन्द होते ही समझौते के सारे   रास्ते बन्द हो जाते हैं ।
 राष्ट्रसंत मुनि श्री तरुणसागरजी.

संकल्प इस नूतन वर्ष का भी-
 
गल्तियों से सीखते जाओ और सुधार करते हुए चलते रहो. आखिर तो...
 
जीवन चलने का नाम, चलते रहो सुबह शाम.
 

2011 का आगामी नूतन वर्ष आपके लिये शुभ और मंगलमय हो.
 
हार्दिक शुभकामनाओं सहित...
 

17 टिप्पणियाँ:

मंजुला ने कहा…

nice.......
aapko bhi nutan varsh ki bahut subhkamnaye....

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

बहुत ही सही सीख नये साल पर....नव वर्ष की शुभकामनाए..

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत प्रेरक..नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

anshumala ने कहा…

नव वर्ष की शुभकामनाए |

उपेन्द्र ' उपेन ' ने कहा…

बहुत ही अच्छी सीख.... तरुण सागर जी को हम भी सुनते है और इनको पसंद करते है. .............नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

अनुपमा पाठक ने कहा…

हार्दिक शुभकामनाएं!

ajit gupta ने कहा…

आपको भी नूतन वर्ष की शुभकामनाएं।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सार्थक सन्देश ।
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ।

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

संदेश देश में ऐसे ही जाने चाहिए
सबको मन से अपने अपनाने चाहिए
एक हिन्‍दी ब्‍लॉगर जो बिल्‍कुल पसंद नहीं है

हर्षवर्धन वर्मा. ने कहा…

नया साल आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ लेकर आये.
मेरी हार्दिक शुभकामनायें.

: केवल राम : ने कहा…

जीवन चलने का नाम, चलते रहो सुबह शाम.
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx
बहुत प्रभावी पंक्तियाँ ...शुक्रिया

: केवल राम : ने कहा…

आदरणीय सुशील बाकलीवाल जी
आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...स्वीकार करें

muskan ने कहा…

आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं .

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत ही सही सीख| नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं|

Dorothy ने कहा…

सार्थक संदेश. आभार.

अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
तय हो सफ़र इस नए बरस का
प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
सुवासित हो हर पल जीवन का
मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
शांति उल्लास की
आप पर और आपके प्रियजनो पर.

आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
सादर,
डोरोथी.

वीना ने कहा…

बहुत सही कहा है आपने....आपको भी नव वर्ष पर ढेर सारी बधाई

मनोज कुमार ने कहा…

सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

साल ग्यारह आ गया है!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...