इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

सोमवार, 6 दिसंबर 2010

जीवन के सफर में राही...

                    सैकडों किशोर यहाँ,
                    सैकडों लता,
               पर शिखर नहीं गर आपका
                  तो किसको है पता.

            उनकी तो गूँज भी दुनिया में छा जाएगी
                  तरन्नुम भी आपका
                बस मन में ही बज पाएगा.


               गाड फादर है कोई गर आपका
                    उम्मीद है तब
                 कुछ भी चल जाये वहाँ,

                 संयोगवश बस यूं ही तुम
                     चलने लगे हो
                 तो आफताब या फ्रीडा जैसा
                   हश्र ही रह पाएगा. 


                 बात होवे राजनीति की 
                या मैदान हो फिर खेल का
                फिल्म का पर्दा हो या फिर
                   क्षेत्र हो पुश्तेनी सा,

            धीरुभाई बनने में तो जिन्दगी खप जाएगी
                  मुकेश गर बनना है तो 
                           बस भाग्य ही चल पाएगा.

10 टिप्पणियाँ:

mridula pradhan ने कहा…

achcha likhe hain.

JAGDISH BALI ने कहा…

वाह ! क्या बात है !

उपेन्द्र ने कहा…

सुनील जी बहुत सही बात कहीं...........बिना किसी उपरी हाथ के जिन्दगी की कोई पहचान मुश्किल है.

Suryadeep Ankit ने कहा…

बढ़िया सीख !!
शुभकामनायें !!!

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत बढ़िया सीख! धन्यवाद|

Subhash Malik ने कहा…

वाह क्या बात है

Akshita (Pakhi) ने कहा…

आपने तो बहुत सुन्दर लिखा..बधाई.
'पाखी की दुनिया' में भी आपका स्वागत है.

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

धीरुभाई बनने में तो जिन्दगी खप जाएगी
मुकेश गर बनना है तो
बस भाग्य ही चल पाएगा.

बहुत खूब .....!!

वीना ने कहा…

आपने ठीक कहा है कि बिना गॉडफादर के कहीं भी कुछ नहीं हो सकता...पर जहां तक लता, किशोर या अन्य पुराने गायकों की बात है..वहां उनकी तुलना में कोई नहीं। नए कलाकार अच्छे-बहुत अच्छे हो सकते हैं पर उन जैसे नहीं...

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत खूब ...जनाब हरफनमौला हैं ...बधाई स्वीकारें न!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...