इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2011

16 टिप्पणियाँ:

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (26.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

डॉ टी एस दराल ने कहा…

वाह रे भगवान ,
यहाँ कुत्ते महंगे , सस्ता इंसान ।

फिर भी मेरा भारत महान ! ! !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत नाइन्साफी है।

OM KASHYAP ने कहा…

videshi sabhayta

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

aisa bhi hota hai kya...?

IRFAN ने कहा…

वफादार और ज़िम्मेदार!

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

तीनों प्रसन्न हैं !
हम क्यों दाल-भात में मूसलचंद बनें ?

निर्मला कपिला ने कहा…

बावफा। शीर्शक होना चाहिये। कमाल का चित्र है। बधाई।

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

बच्ची खुश है कि उसका प्यारा डॉगी मम्मी के कंधे पर है....
बच्ची खुश तो हम भी खुश...

G.N.SHAW ने कहा…

जी हाँ.. सोंचती होगी की मनमोहन ..धन्यवाद..!

Dr Varsha Singh ने कहा…

काश! कोई ये बताये...क्या हुआ ये ????????

mahendra verma ने कहा…

घोर कलियुग।

संजय भास्कर ने कहा…

जन्मदिन की ढेरो शुभकामनाये

संजय भास्कर ने कहा…

सुशील बाकलीवाल जी जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई|

chirag ने कहा…

bahut khoob sir
sach main aajkal insaan ki value kam hui hain

check my blog
http://iamhereonlyforu.blogspot.com/

Mirchi Namak ने कहा…

सच है श्वान की हैसियत अपने बच्चे से अधिक है इस युग को क्या कहेंगे आधुनिक या कलयुग

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...