इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

श्री अण्णा हजारे और जन लोकपाल बिल



      श्री अण्णा हजारे 1965 के भारत पाक युद्ध के दौरान सेना में सैनिक थे । युद्ध के दौरान उनकी पूरी यूनिट में वे एकमात्र सैनिक थे जो जीवित बचे । उन्होंने अपने इस पुर्नजीवन को भगवान की देन समझा और पूरा जीवन समाज की सेवा के लिये समर्पित कर दिया । उन्होंने शादी नहीं की और वे एक मंदिर में जीवन बिताते हैं । उनके नाम न कोई बैंक बैलेन्स है और न ही कोई जमीन । कुछ जोडी कपडे के अलावा उनकी कोई सम्पत्ति नहीं है । 

      श्री अण्णा हजारे महाराष्ट्र में गरीब लोगों के हितों की रक्षा करने के लिये कई बार आमरण अनशन पर बैठे हैं और उनके अनशन की वजह से महाराष्ट्र सरकार को 6 भ्रष्ट मंत्रियों व 400 अफसरों को बर्खास्त करना पडा और महाराष्ट्र में सूचना अधिकार कानून समेत 7 कानून पारित किये गए । यह उनके प्रयासों का ही नतीजा है कि आज महाराष्ट्र के कई गांव जहाँ कभी सूखा हुआ करता था वहाँ आज हरियाली है, खाद्य सम्पदा है ।

      ये वही अण्णा हजारे हैं जिन्होंने देश में भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिये सूचना का अधिकार बनवाया और अब यही अण्णा हजारे भ्रष्टाचारियों से लडने के लिये जन लोकपाल रुपी हथियार के लिये  संघर्ष कर रहे हैं । जनलोकपाल लागू होगा तो देश से भ्रष्टाचार का उन्मूलन होने के साथ ही ईमानदार लोगों को सिर उठाकर जीने का अधिकार मिलेगा । देश फिर से वैभवशाली, गरीबीमुक्त, भुखमरीमुक्त, अपराधमुक्त और बेरोजगारी से मुक्त हो सकेगा ।

जन लोकपाल बिल
      जस्टिस संतोष हेगडे, प्रशांत भूषण, अरविन्द केजरीवाल, किरण बेदी व अन्य प्रबुद्ध व्यक्तियों द्वारा बनाया गया यह विधेयक जनता के द्वारा वेबसाईट पर दी गई प्रतिक्रिया और जनता के साथ विचार-विमर्श के बाद विधि-विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया गया है । इस बिल को शांति भूषण, जे. एम. लिंगदाह, अन्ना हजारे, श्री श्री रविशंकर, बाबा रामदेव, महमूद मदानी, आर्क बिशप विन्सेन्ट एम. कान्सेसाओ, सैयद रिजवी, जस्टिस डी. एस. तेवटिया, प्रदीप गुप्ता, कमलकान्त जायसवाल, सुनिता गोदारा, सैय्यद शाह, फजलुर्रहमान वाईजी आदि का समर्थन प्राप्त है । इस बिल की प्रति प्रधानमंत्री एवं सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भेजी गयी थी, जिसका उन्होंने इस अनशन के पूर्व तक कोई जवाब नहीं दिया ।

इस कानून में क्या है ?

        1.  इस कानून के अन्तर्गत केन्द्र में लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्त का गठन होगा ।

        2. ये संस्था निर्वाचन आयोग और सुप्रीम कोर्ट की तरह सरकार से स्वतंत्र होगी । कोई भी नेता या सरकारी अधिकारी जांच की प्रक्रिया को प्रभावित नहीं कर पाएगा ।

        3. भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कई सालों तक मुकदमे लंबित नहीं रहेंगे । किसी भी मुकदमे की जांच एक साल के भीतर पूरी होगी । ट्रायल अगले एक साल में पूरा होगा और भ्रष्ट नेता, अधिकारी या जज को दो साल के भीतर जेल भेजा जावेगा ।

        4. अपराध सिद्ध होने पर भ्रष्टाचारियों के द्वारा सरकार को हुए घाटे को वसूल किया जावेगा ।

        5. ये आम आदमी की कैसे मदद करेगा ?

              यदि किसी नागरिक का काम तय समय सीमा में नहीं होता तो लोकपाल दोषी अफसर पर जुर्माना लगाएगा और वह मुआवजा शिकायतकर्ता को मुआवजे के रुप में मिलेगा ।

        6. अगर आपका राशन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट आदि तय समय सीमा के अन्दर नहीं बनते हैं, या  पुलिस आपकी शिकायत दर्ज नहीं करती तो आप इसकी शिकायत लोकपाल से कर सकते हैं और उसे यह काम एक महिने के भीतर करवाना होगा । आप किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार की शिकायत लोकपाल से कर सकते हैं जैसे- सरकारी राशन की कालाबाजारी, सडक बनाने में गुणवत्ता की अनदेखी, पंचायत निधि का दुरुपयोग, लोकपाल को इसकी जांच एक साल के भीतर करनी होगी ।

        7. क्या सरकार भ्रष्ट और कमजोर लोगों को लोकपाल का सदस्य नहीं बनाना चाहेगी ?

              ये मुमकिन नहीं है क्योंकि लोकपाल के सदस्यों का चयन जजों, नागरिकों और संवेधानिक संस्थानों द्वारा किया जावेगा न कि नेताओं द्वारा । इनकी नियुक्ति पारदर्शी तरीके से और जनता की भागीदारी से होगी ।

        8. अगर लोकपाल में काम करने वाले अधिकारी भ्रष्ट पाये गये तो ?

              लोकपाल / लोकायुक्तों का कामकाज पूरी तरह से पारदर्शी होगा । लोकपाल के किसी भी क्रमचारी के खिलाफ शिकायत आने पर उसकी जांच अधिकतम दो महिने में पूरी कर उसे बर्खास्त कर दिया जावेगा ।

        9. मौजूदा भ्रष्टाचार निरोधक संस्थानों का क्या होगा ?

              सीवीसी, विजिलेंस विभाग, सी बी आई की भ्रष्टाचार निरोधक विभाग को लोकपाल में विलय कर दिया जाएगा । लोकपाल को किसी जज, नेता या अफसर के खिलाफ जांच करने व मुकदमा चलाने के लिये पूर्ण शक्ति और व्यवस्था भी होगी ।


         अब पिछले तीन दिनों से चल रहे अण्णा के इस अनशनकारी आंदोलन के समर्थन में देश भर से जैसे-जैसे सैकडों हजारों से होते हुए लाखों देशवासियों का जुडाव बढता जा रहा है सरकार को अपना अस्तित्व खतरे में दिखने लगा है । आंदोलनकारियों को येन-केन मना लेने के आधे-अधूरे शासकीय प्रयास सामने आ रहे हैं । जबकि आज आवश्यकता इस बात की दिख रही है सार्वजनिक जीवन में महाभ्रष्ट लोगों के अपराध का शीघ्र निर्णय होने के साथ ही उन्हें उनकी कारगुजारियों की समय पर उपयुर्क्त सजा मिलने के लिये देश में यह कानून अविलम्ब लागू हो सके ।



15 टिप्पणियाँ:

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

अत्यंत महत्वपूर्ण जानकारी....
सारगर्भित लेख के लिये बहुत बहुत आभार !

Manpreet Kaur ने कहा…

महत्वपूर्ण जानकारी.मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
Music Bol
Lyrics Mantra
Shayari Dil Se

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

बहुत अच्छी और उपयोगी जानकारी ।

रचना ने कहा…


खुद ईमानदार होते हुए भी जब इंसान गरीब होता हैं और बेईमान को अमीर देखता हैं तो शायद रास्ता दिखना बंद हो जाता हैं

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सार्थक जानकारी.

nilesh mathur ने कहा…

हम सब अन्ना के साथ हैं!

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (09.04.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने कहा…

जन लोक पाल बिल के बारे में विस्तृत जानकारी पढ़ने को मिली ! धन्यवाद !
अन्ना हजारे के प्रयास को जन जन का समर्थन मिल रहा है लगता है एक और क्रांति का जन्म हो चुका है ! आखिर सहने की भी एक सीमा होती है !
सामयिक और सार्थक पोस्ट के लिए आभार!

Deepak Saini ने कहा…

सारा देश हजारे के साथ है

डॉ टी एस दराल ने कहा…

कामना करते हैं कि अन्ना की मेहनत रंग लाये ।

raj porwal ने कहा…

अन्ना से जुडी जानकारी देकर आपने सच्चे अर्थो में ब्लॉग की और देश की गरिमा बड़ाई है इसके लिए आपका तहे दिल से सुक्रगुजार हू.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुन्दर जानकारी, देश और सुन्दर हो।

आकाश सिंह ने कहा…

बधाई हो बधाई....... |
आज भारत माता की जीत हुई है | आख़िरकार माँ की लाज बचाने के लिए हर भारतीय एक साथ आवाज लगाये |
इस आवाज को अभी रोकना नही है |
जय हिंद.... |

यहाँ भी आयें|
यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.akashsingh307.blogspot.com

वाणी गीत ने कहा…

सुनने में आया है की सरकार ने अन्ना की सभी मांगे मांग ली हैं...
लोकपाल बिल की उपयोगी जानकारी !

Amrita Tanmay ने कहा…

बधाई हो ..अन्ना के साथ हम जीत गए .

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...