इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

गुरुवार, 21 मार्च 2013

वक्त कहाँ है ?


                  हर खुशी है लोगों के दामन में
                  पर हँसने के लिये वक्त नहीं.
 
                                                      दिन-रात दौडती दुनिया में, 
                                                      जिन्दगी के लिये वक्त नहीं. 
                 माँ की लोरी का एहसास तो है,                 
                 पर माँ को माँ कहने का वक्त नहीं. 
                                                         सारे रिश्तों को तो हम मार चुके,
                                                         पर उन्हें दफनाने का भी वक्त नहीं.
                 सारे दोस्तों के नाम मोबाईल में हैं,
                 पर दोस्ती के लिये वक्त नहीं.
 
                                                        गैरों की क्या बात करें,
                                                        जब अपने लिये ही वक्त नहीं.
                 आँखों में तो नींद भरी है,
                 पर सोने के लिये वक्त नहीं.
 
                                                        दिल है गमों से भरा हुआ,
                                                        पर रोने के लिये वक्त नहीं.
                 पराये एहसानों की क्या कद्र करें,                            
                 जब अपने सपनों के लिये ही वक्त नहीं. 
                                                        तू ही बता ए जिन्दगी,
                                                        इस जिन्दगी का क्या होगा ?
                कि हर पल मरने वालों को,                  
                जीने के लिये भी वक्त नहीं
                                                        भूख तो है, इच्छा भी, भोजन भी है,
                                                        पर उसे खाने के लिये वक्त नहीं.
                 हर चीज की हमको जल्दी है,
                 पर जल्दी के लिये भी वक्त नहीं.

12 टिप्पणियाँ:

andcp samachar ने कहा…

पर मेरे पास आपकी इस बेहतरीन ग़ज़ल को पढने के लिए वक़्त की कमी नहीं है ...शानदार

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" ने कहा…

वक्त तो निकलना हे पड़ेगा ..अच्छी प्रस्तुति

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

धन्यवाद आपको वक्त देने के लिये.

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

धन्यवाद.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सच में, पर चाह के लिये समय तो निकालना ही होगा..

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

प्रवीणजी, वक्त तो चाहत की प्राथमिकता में ही लग रहा है.

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

Kalipad "Prasad" ने कहा…

सच आज वख्त की कमी है पर वख्त को वख्त तो देना ही पड़ता है
latest post भक्तों की अभिलाषा
latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

Pratibha Verma ने कहा…


बहुत सुन्दर ...
पधारें "चाँद से करती हूँ बातें "

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच कहा है .. माँ को माँ कहने का समय नहीं किसी के पास आज ...
बेहतरीन ..

कविता रावत ने कहा…

बिलकुल सही रचना है वक्त पर .. ..
लेकिन कुछ अच्छे के लिए वक्त निकलना ही पड़ता है ...

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

पर रुचिकर वस्तु पढ़ने के लिए वक्त सबको मिल आता है !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...