इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

बुधवार, 10 अप्रैल 2013

उपहार.


एक महिला के 3 दामाद थे ।

उसके दामाद उसे चाहते भी हैं या नहीं यह जानने के लिए एक दिन वह पहले दामाद को लेकर तालाब के किनारे घूमने गई और उसमें कूद पड़ी   ।

पहले दामाद ने उसे बचा लिया ।

सास ने उसे एक मारुति कार उपहार में दी ।

अगले दिन दूसरे दामाद के साथ तालाब किनारे घूमने गई और फिर कूद पड़ी ।

दूसरे दामाद ने भी उसे बचा लिया ।

सास ने उसे एक मोटर साइकिल दी ।

2 दिन के बाद तीसरे दामाद को लेकर गई और तालाब में कूद पड़ी ।

तीसरे दामाद ने सोचा - `लगता मुझे, तो साइकिल ही मिलेगी तो खामख्वाह मेहनत करके क्या फायदा, और वह बचाने नहीं गया ।

इस तरह से सासू माँ डूब गई ।

लेकिन अगले दिन इस दामाद को मर्सिडीज कार मिली ।

आखिर यह चमत्कार कैसे हो गया ?

अरे भाई अबकि बार उसके ससुरजी मेहरबान हो गये थे.

  मुनि सिद्धांतसागरजी के संकलन से.
                          

7 टिप्पणियाँ:

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

प्रभावशाली ,
जारी रहें।

शुभकामना !!!

आर्यावर्त

आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

दिलबाग विर्क ने कहा…

आपकी यह प्रस्तुति कल के चर्चा मंच पर है
कृपया पधारें

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
नवसम्वत्सर-२०७० की हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हा हा, कोई टिप्पणी नहीं करेंगे।

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

पत्नी से छुटकारा पाना ऐसा ही सुखद होता होगा, पर स्त्रियाँ ऐसे सोच भी नहीं-सकतीं मज़ाक में भी !

Sharda Arora ने कहा…

ha ha ha...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...