This is default featured slide 1 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 2 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 3 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 4 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

This is default featured slide 5 title

Go to Blogger edit html and find these sentences.Now replace these sentences with your own descriptions.

इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

मंगलवार, 13 जनवरी 2015

सुख की दुश्मन : ईर्ष्या.



बहुत पहले की बात है – किसी गांव में एक गरीब किसान रहता था, उसके पास एक छोटा सा खेत था जिसमें सब्जियां उगाकर वह अपना व परिवार का पेट पालता था । गरीबी के कारण उसके पास धन की हमेशा कमी रहती थी । स्वभावतः वह बहुत ईर्ष्यालु स्वभाव का था इस कारण उसकी अडौसी-पडौसी व रिश्तेदारों से बिल्कुल नहीं निभती थी । किसान की उम्र ढलने लगी थी अतः उसे खेत पर काम करने में बहुत मुश्किले आती थी । खेत जोतने के लिये उसके पास बैल नहीं थे, सिंचाई के लिये वर्षा पर निर्भर रहना पडता था, खेत में या आस-पास कोई कुआँ भी नहीं था जिससे वह अपने खेतों की सिंचाई कर पाता ।

     एक दिन वह थका-हारा अपने खोत से लोट रहा था । उसे रास्ते में सफेद कपडों में सफेद दाढी वाला एक बूढा मिला । बूढा उससे बोला – क्या बात है भाई, बहुत दुःखी जान पडते हो ? किसान बोला – क्या बताऊँ बाबा, मेरे पास धन की बहुत कमी है । यदि मेरे पास एक बैल होता तो मैं खेत की जुताई, बुआई और सिंचाई का सारा काम आराम से कर लेता । बूढा बोला – अगर तुम्हें एक बैल मिल जाए तो तुम क्या करोगे ? तब मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहेगा, मेरी खेती का सारा काम बहुत आसान हो जाएगा । पर बैल मुझे मिलेगा कहाँ से ? किसान बोला ।

     मैं आज ही तुम्हें एक बैल दिए देता हूँ, यह बैल अपने घर ले जाओ और घर जाकर अपने पडौसी को मेरे पास भेज देना, बूढे ने कहा । किसान बोला – आप मुझे बैल दे रहे हैं यह जानकर मुझे बहुत खुशी हो रही है । किन्तु आप मेरे पडौसी से क्यों मिलना चाहते हैं ? बूढा बोला अपने पडौसी से कहना कि वह मेरे पास आकर दो बैल ले जाए ।

     बूढे की बात सुनकर किसान को भीतर ही भीतर क्रोध आने लगा, वह ईष्या के कारण जल-भुन कर रह गया । वह बूढे से बोला – आप नहीं जानते कि मेरे पडौसी के पास सब-कुछ है । यदि आप मेरे पडौसी को भी दो बैल देना चाहते हैं तो मुझे तुम्हारा एक बैल भी नहीं चाहिये ।

     बूढे ने तत्काल बैल को अपनी ओर वापस खींच लिया और कहा – क्या तुम जानते हो कि तुम्हारी समस्या क्या है ? तुम्हारी समस्या गरीबी नहीं बल्कि ईर्ष्या है । तुम्हें जो कुछ मिल रहा है, यदि तुम उसी को देखकर संतुष्ट हो जाते और पडौसियों व रिश्तेदारों की सुख-सुविधा से ईर्ष्या न करते तो शायद संसार में सबसे सुखी इन्सान बन जाते ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...