बुधवार, 25 जनवरी 2017

दांव...!


            एक्सप्रेस ट्रेन करीब-करीब खाली ही चल रही थी । वकील साहब जिस AC III  कोच में बैठे थे उसमें भी बहुत कम यात्री थे और उनके वाले कूपे में तो उनके अलावा दूसरा कोई पैसेंजर नहीं था ।

           तभी एक सजी-धजी संभ्रांत सी दिखती एक महिला उसी कोच में उनके सामने वाली बर्थ पर आकर मुस्कुराते हुए उनके सामने बैठी । वकील साहब ने भी उसकी मुस्कान के प्रतिउत्तर में अपनी ओर से मुस्कराहट दी और अपनी किताब पढने में तल्लीन हो गये ।

 
            गाडी चलने के कुछ देर बाद वो महिला वकील साहब से बोली - "मिस्टर, चुपचाप अपनी चैन, पर्स, घड़ी व मोबाइल मुझे दे दो नहीं तो मैं चिल्लाऊँगी कि, तुमने मेरे साथ छेड़खानी की है।"

            वकील साहब ने शांति से अपने ब्रीफकेस से एक कागज निकाला और उसपर लिखा - "मैं मूक-बधिर हूँ, बोल और सुन
नहीं सकता हूँ ।  आप क्या कह रही हैं कृपया लिखकर मुझे बताएँ ।"

            महिला ने जो कहा था वो उसी कागज पर लिखकर पढने को दे दिया ।


            बडी तसल्ली से वकील साहब ने उस कागज को मोड़कर हिफाजत से अपनी जेब में रखा और बोले-" हाँ, अब चिल्लाओ कि मैंने तुम्हारे साथ छेड़खानी की है ।  अब तुम्हारा लिखित बयान
मेरे पास है।"

            यह सुनते ही वह महिला सकते में आगई और वहाँ से अगली बोगी की तरफ मुँह छुपाते हुए ऐसी भागी जैसे कोई भूत उसके पीछे लग गया हो।


          शिक्षा - कैसी भी विपरीत परिस्थिति हो यदि शांत चित्त रहकर उपाय सोचा जाए तो उससे अवश्य पार पाया जा सकता है । 



शनिवार, 21 जनवरी 2017

विश्वास...


             किसी जंगल में एक वृक्ष पर चिडा-चिडी घोसला बनाकर प्रेमपूर्वक रहते थे । एक दिन चिड़िया बोली - मुझे छोड़ कर कभी उड़ तो नहीं जाओगे ?
 
             चिड़े ने कहा - यदि मैं उड़ जाऊं तो तुम पकड़ लेना ।
            चिड़िया बोली - मैं तुम्हें पकड़ तो सकती हूँ, पर फिर पा तो नहीं सकती !
 
            यह सुन चिड़े की आँखों में आंसू आ गए । उसने उसी समय अपने पंख तोड़ दिए और चिडी से कहा अब हम हमेशा साथ रहेंगे ।
          लेकिन एक दिन जोर से तूफान आया, चिड़िया उड़ने लगी तभी चिड़ा बोला तुम उड़ जाओ मैं नहीं उड़ सकता  !
 
            अच्छा अपना ख्याल रखना कहकर चिड़िया उड़ गई !
 
           जब तूफान थमा और चिड़िया वापस आई तो देखा कि चिड़ा मर चुका था और एक डाली पर लिखा था - "काश वो एक बार तो कहती कि मैं तुम्हें नहीं छोड़ सकती ।"  तो शायद मैं तूफ़ान आने से पहले नहीं मरता ।


बुधवार, 18 जनवरी 2017

गांव तुम्हारा - शहर हमारा...


          एक अमीर आदमी अपने बेटे को लेकर गाँव गया, ये दिखाने कि गरीबी कैसी होती है । गाँव की गरीबी दिखाने के बाद उसने अपने बेटे से पूछा - "देखी गरीबी ?"

            बेटे ने जवाब दिया - हमारे पास 1 dog है और उनके पास 10-10 गाये है । 

            हमारे पास नहाने की छोटी सी जगह है और उनके पास पूरे तालाब हैं ।

              हमारे पास बिजली है और उनके पास सितारे...

             हमारे पास जमीन का छोटा सा टुकडा है और उनके पास बडे बडे खेत......

             हम डिब्बे का पैक बासी खाना खाते हैं, और वो स्वयं उगाकर और ताजा तोडकर खाते हैं ।

             उनके पास अपने वास्तविक मित्र हैं । जबकि हमारे लिये बस कंप्यूटर ही हमारा मित्र है ।

             हमारे पास खुशियाँ खरीदने को पैसा है, उनके पास खुशियाँ है,  जिसके लिये उन्हें पैसे की जरुरत ही नहीं ।

             उनके पापा के पास बच्चों के लिऐ समय है पर पापा आपके पास समय ही नही है ।

              पापा एकदम चुप....!

            बेटे ने कहा ''Thanks पापा मुझे यह दिखाने के लिये कि हम कितने गरीब हैं...


सोमवार, 9 जनवरी 2017

भारतीय मुद्रा तब से अब तक


           किस-किस की जानकारी में है ये - प्राचीन भारतीय मुद्रा प्रणाली

           फूटी कौड़ी (Phootie Cowrie) से कौड़ी,

           कौड़ी से दमड़ी (Damri),

           दमड़ी से धेला (Dhela),

           धेला से पाई (Pie),

           पाई से पैसा (Paisa),

           पैसा से आना (Aana),

           आना से रुपया (Rupya) बना ।

           256 दमड़ी = 192 पाई = 128 धेला = 64 पैसा  (old) = 16 आना = 1 रुपया.

            प्राचीन मुद्रा की इन्हीं इकाइयों ने हमारी बोल-चाल की भाषा को   कई कहावतें दी हैं, जो पहले की तरह अब भी प्रचलित हैं ।  देखिए :
          

           ●   एक 'फूटी कौड़ी' भी नहीं दूंगा ।
 
           ●   'धेले' का काम नहीं करती हमारी बहू !

 
           ●   चमड़ी जाये पर 'दमड़ी' न जाये ।

 
           ●   'पाई-पाई' का हिसाब रखना ।

 
           ●   सोलह 'आने' सच ! आदि । 


गुरुवार, 5 जनवरी 2017

हँसते-हँसते (जन-धन खाता)


          कस्टमर -   जन धन में खाता खुलवाना है....!!

          बैंक मैनेजर -   खुलवा लो...!!

          कस्टमर -  क्या ये जीरो बैलेंस में खुलता है.....!!

          बैंक मैनेजर (मन ही मन में साला पता है फिर भी पूछ रहा है) - हाँ जी फ्री में खुलवा लो....!!


          कस्टमर  -  इसमें सरकार कितना पैसा डालेगी ?

          बैंक मैनेजर -  जी अभी तो कुछ पता नहीं....!!

          कस्टमर -  तो मैं ये खाता क्यों खुलवाऊँ ?

          बैंक मैनेजर -  जी मत खुलवाओ....!!

          कस्टमर -  फिर भी सरकार कुछ तो देगी.....!!

          बैंक मैनेजर -   आपको फ्री में ATM CARD दे देंगे.....!!

          कस्टमर -   जब उसमे पैसा ही नहीं होगा तो एटीएम का क्या करूँगा ?

          बैंक मैनेजर -  पैसे डलवालो भैया तुम्हारा खाता है.....!

          कस्टमर -   मेरे पास पैसा होता तो मैं पहले नहीं खुलवा लेता,  तुम खाता खोल रहे हो तो तुम डालो न पैसे.....!!

          😞
बैंक मैनेजर -   अरे भाई सरकार खुलवा रही है.....!!

          कस्टमर -   तो ये सरकारी बैंक नहीं है ?

          बैंक मैनेजर -   अरे भाई सरकार तुम्हारा बीमा फ्री कर रही है, पुरे लाख का,

          कस्टमर - (खुश होते हुए) अच्छा तो ये एक लाख मुझे कब मिलेंगे ?

          बैंक मैनेजर -  (गुस्से में) जब तुम मर जाओगे तब तुम्हारी बीबी को मिलेंगे.....!!

          कस्टमर -  (अचम्भे से) तो तुम लोग मुझे मारना चाहते हो ? और मेरी बीबी से तुम्हारा क्या मतलब है ?

          बैंक मैनेजर -  अरे भाई ये हम नहीं सरकार चाहती है...!!

          कस्टमर -   (बीच में बात काटते हुए) तुम्हारा मतलब सरकार मुझे मारना चाहती है ?

          बैंक मैनेजर -   अरे यार मुझे नहीं पता, तुमको खाता खुलवाना है या नहीं ?

          कस्टमर -  नहीं पता का क्या मतलब ? मुझे पूरी बात बताओ ।

          बैंक मैनेजर -  अरे अभी तो मुझे भी पूरी बात नहीं पता, मोदीजी ने कहा कि खाता खोलो तो हम खोल रहे हैं.....!!

          कस्टमर - अरे नहीं पता तो यहां क्यों बैठे हो, (जन धन के पोस्टर को देखते हुए) -  अच्छा ये 5000/- रु. का ओवरड्राफ्ट क्या है ?

          बैंक मैनेजर -  मतलब तुम अपने खाते से 5000/- रु. निकाल सकते हो,

          कस्टमर (बीच में बात काटते हुए) -  ये हुई ना बात, ये लो आधार कार्ड, 2 फोटो और निकालो 5000/- रु.......!!

          बैंक मैनेजर -   अरे यार ये तो 6 महीने बाद मिलेंगे.......!!

          कस्टमर -   मतलब मेरे 5000/- रु. का इस्तेमाल 6 महीने तक तुम लोग करोगे......!!

          बैंक मैनेजर -  भैया ये रुपये ही 6 महीने बाद आएंगे......!!

          कस्टमर -  झूठ मत बोलो, पहले बोला कि कुछ नहीं मिलेगा, फिर कहा एटीएम मिलेगा, फिर बोला बीमा मिलेगा, फिर बोलते हो 5000/- रु. मिलेंगे, फिर कहते हो कि नहीं मिलेंगे, तुम्हे कुछ पता भी है ?

          बैंक मैनेजर बेचारा -   अरे मेरे बाप कानून की कसम, भारत माँ की कसम, मैं सच कह रहा हूँ, मोदी जी ने अभी कुछ नहीं बताया है,.... तुम चले जाओ,...... खुदा की कसम, ... तुम जाओ,.... मेरी सैलरी इतनी नहीं है कि ....... एक साथ ब्रेन हैमरेज और हार्ट अटैक दोनो का ईलाज करवा सकूँ.......!!
सोर्स - WhatsApp.

मंगलवार, 3 जनवरी 2017

ऐतिहासिकता यह भी...


            अकबर की महानता का गुणगान तो कई इतिहासकारों ने किया है लेकिन अकबर की औछी हरकतों का वर्णन बहुत कम इतिहासकारों ने किया है ।

            अकबर अपने गंदे इरादों से प्रतिवर्ष दिल्ली में नौरोज का मेला आयोजित करवाता था जिसमें पुरुषों का प्रवेश निषेध था अकबर इस मेले में महिला की वेष-भूषा में जाता था और जो महिला उसे मंत्र मुग्ध कर देती थी उसे दासियाँ छल कपटवश अकबर के सम्मुख ले जाती थी एक दिन नौरोज के मेले में महाराणा प्रताप की भतीजी छोटे भाई महाराज शक्तिसिंह की पुत्री मेले की सजावट देखने के लिए आई जिनका नाम बाईसा किरणदेवी था जिनका विवाह बीकानेर के पृथ्वीराज जी से हुआ।

            बाईसा किरणदेवी की सुंदरता को देखकर अकबर अपने आप पर काबू नही रख पाया और उसने बिना सोचे समझे दासियों के माध्यम से धोखे से जनाना महल में बुला लिया जैसे ही अकबर ने बाईसा किरणदेवी को स्पर्श करने की कोशिश की किरणदेवी ने कमर से कटार निकाली और अकबर को ऩीचे पटकर छाती पर पैर रखकर कटार गर्दन पर लगा दी और कहा नीच... नराधम...  तुझे पता नहीं मैं उन महाराणा प्रताप की भतीजी हुं जिनके नाम से तुझे नींद नहीं आती है बोल तेरी आखिरी इच्छा क्या है अकबर का खून सुख गया कभी सोचा नहीं होगा कि सम्राट अकबर आज एक राजपूत बाईसा के चरणों में होगा अकबर बोला मुझे पहचानने में भूल हो गई मुझे माफ कर दो देवी तो किरण देवी ने कहा कि आज के बाद दिल्ली में नौरोज का मेला नहीं लगेगा और किसी भी नारी को परेशान नहीं करेगा अकबर ने हाथ जोड़कर कहा आज के बाद कभी मेला नहीं लगेगा उस दिन के बाद कभी मेला नहीं लगा ।
     
  
            इस घटना का वर्णन गिरधर आसिया द्वारा रचित सगत रासो मे 632 पृष्ठ संख्या पर दिया गया है बीकानेर संग्रहालय में लगी एक पेटिंग में भी इस घटना को एक दोहे के माध्यम से बताया गया है-
किरण सिंहणी सी चढी उर पर खींच कटार
भीख मांगता प्राण की अकबर हाथ पसार


धन्य है किरण बाईसा उनकी वीरता को कोटिशः प्रणाम !

इलाज...!

        एक महिला ने अपने पति का मोबाइल चेक किया तो फोन  नंबर कुछ अलग ही तरीके से  Save किये हुए दिखे, जैसे :-         आँखों का इलाज ...