रविवार, 16 जनवरी 2011

मिलिये क्रोध के खानदान से...

         *     क्रोध का अपना पूरा खानदान है.   *

       *   अहंकार क्रोध का प्रिय बडा भाई है जो इसके कण-कण में रहता है।

       *   जिद क्रोध की लाडली बहन है, जो हमेशा क्रोध के साथ रहती है ।

       *   हिंसा क्रोध की पत्नि है जो अक्सर उसके पीछे रहती है, लेकिन कभी-कभी आवाज सुनकर बाहर भी आ जाती है ।

       *   क्रोध का बाप भी है जिससे वह डरता है, उसके बाप का नाम है भय

       *   उपेक्षा क्रोध की मां है ।

       *   बैर बेटा है इसका, और इसके खानदान की नकचढी बहू है ईर्ष्या

       *   निंदा और चुगली क्रोध की दोनों बेटियां हैं जो अक्सर एक मुंह के पास रहती है और दूसरी कान के पास ।

       *   घृणा इसके परिवार की पोती है, जो इसकी नाक के पास रहती है और नाक-भौं सिकोडना इसका काम होता है ।


14 टिप्‍पणियां:

Amit Chandra ने कहा…

वाह वाह। क्या बात है सर जी आपने तो उसके पुरे खानदान का परिचय दे दिया।

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

Nice post.
http://ahsaskiparten.blogspot.com/2011/01/like-cures-like.html

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत खूब..सत्य वचन

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर तरीके से मिलवाया आपने क्रोध के खानदान से ....... ईश्वर इस परिवार से सबको बचाए.....

वाणी गीत ने कहा…

पूरा खानदान और नाते रिश्तेदार ही बैरी है ...खुदा बचाए ...मगर बचते बचते भी इनके चंगुल में आ ही जाते हैं !

दर्शन कौर धनोय ने कहा…

वाह !!! क्या कहने जनाब के ! शब्द -कोष खाली हो गया ? शब्द ही नही बचे क्या तारीफ करू ---?

Shah Nawaz ने कहा…

क्या बात है... आपने तो पुरे परिवार से ही साक्षात्कार करा दिया... आभार!

S.M.Masoom ने कहा…

एक बेहतरीन पोस्ट

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आपने इनके पूरे परिवार से परिचय करा दिया। सबकी कोई न कोई रिश्तेदारी है इनसे।

mridula pradhan ने कहा…

krodh ka achcha pariwar prastut kar diye.

डॉ टी एस दराल ने कहा…

बड़ा भरा पूरा परिवार है !

उपेन्द्र नाथ ने कहा…

krodh pr bahut hi achchhi ankari deti post. agar isase bach gaye to sabse bach gaye.......

Mithilesh dubey ने कहा…

आपने तो पुरे परिवार से ही साक्षात्कार करा दिया आभार

संजय भास्‍कर ने कहा…

pore parivar ka parichay kra diya aapne

यमराज का भ्रमण भारत देश में...

यमराज भ्रमण       कल रात सपने में मुझे मृत्युलोक से यमराज का ये खत भारतवासियों के लिये पढ़ने को मिला जिसे मैं आप सबके लिए उन्हीं की भा...