इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

गुरुवार, 5 जनवरी 2017

हँसते-हँसते (जन-धन खाता)


          कस्टमर -   जन धन में खाता खुलवाना है....!!

          बैंक मैनेजर -   खुलवा लो...!!

          कस्टमर -  क्या ये जीरो बैलेंस में खुलता है.....!!

          बैंक मैनेजर (मन ही मन में साला पता है फिर भी पूछ रहा है) - हाँ जी फ्री में खुलवा लो....!!


          कस्टमर  -  इसमें सरकार कितना पैसा डालेगी ?

          बैंक मैनेजर -  जी अभी तो कुछ पता नहीं....!!

          कस्टमर -  तो मैं ये खाता क्यों खुलवाऊँ ?

          बैंक मैनेजर -  जी मत खुलवाओ....!!

          कस्टमर -  फिर भी सरकार कुछ तो देगी.....!!

          बैंक मैनेजर -   आपको फ्री में ATM CARD दे देंगे.....!!

          कस्टमर -   जब उसमे पैसा ही नहीं होगा तो एटीएम का क्या करूँगा ?

          बैंक मैनेजर -  पैसे डलवालो भैया तुम्हारा खाता है.....!

          कस्टमर -   मेरे पास पैसा होता तो मैं पहले नहीं खुलवा लेता,  तुम खाता खोल रहे हो तो तुम डालो न पैसे.....!!

          😞
बैंक मैनेजर -   अरे भाई सरकार खुलवा रही है.....!!

          कस्टमर -   तो ये सरकारी बैंक नहीं है ?

          बैंक मैनेजर -   अरे भाई सरकार तुम्हारा बीमा फ्री कर रही है, पुरे लाख का,

          कस्टमर - (खुश होते हुए) अच्छा तो ये एक लाख मुझे कब मिलेंगे ?

          बैंक मैनेजर -  (गुस्से में) जब तुम मर जाओगे तब तुम्हारी बीबी को मिलेंगे.....!!

          कस्टमर -  (अचम्भे से) तो तुम लोग मुझे मारना चाहते हो ? और मेरी बीबी से तुम्हारा क्या मतलब है ?

          बैंक मैनेजर -  अरे भाई ये हम नहीं सरकार चाहती है...!!

          कस्टमर -   (बीच में बात काटते हुए) तुम्हारा मतलब सरकार मुझे मारना चाहती है ?

          बैंक मैनेजर -   अरे यार मुझे नहीं पता, तुमको खाता खुलवाना है या नहीं ?

          कस्टमर -  नहीं पता का क्या मतलब ? मुझे पूरी बात बताओ ।

          बैंक मैनेजर -  अरे अभी तो मुझे भी पूरी बात नहीं पता, मोदीजी ने कहा कि खाता खोलो तो हम खोल रहे हैं.....!!

          कस्टमर - अरे नहीं पता तो यहां क्यों बैठे हो, (जन धन के पोस्टर को देखते हुए) -  अच्छा ये 5000/- रु. का ओवरड्राफ्ट क्या है ?

          बैंक मैनेजर -  मतलब तुम अपने खाते से 5000/- रु. निकाल सकते हो,

          कस्टमर (बीच में बात काटते हुए) -  ये हुई ना बात, ये लो आधार कार्ड, 2 फोटो और निकालो 5000/- रु.......!!

          बैंक मैनेजर -   अरे यार ये तो 6 महीने बाद मिलेंगे.......!!

          कस्टमर -   मतलब मेरे 5000/- रु. का इस्तेमाल 6 महीने तक तुम लोग करोगे......!!

          बैंक मैनेजर -  भैया ये रुपये ही 6 महीने बाद आएंगे......!!

          कस्टमर -  झूठ मत बोलो, पहले बोला कि कुछ नहीं मिलेगा, फिर कहा एटीएम मिलेगा, फिर बोला बीमा मिलेगा, फिर बोलते हो 5000/- रु. मिलेंगे, फिर कहते हो कि नहीं मिलेंगे, तुम्हे कुछ पता भी है ?

          बैंक मैनेजर बेचारा -   अरे मेरे बाप कानून की कसम, भारत माँ की कसम, मैं सच कह रहा हूँ, मोदी जी ने अभी कुछ नहीं बताया है,.... तुम चले जाओ,...... खुदा की कसम, ... तुम जाओ,.... मेरी सैलरी इतनी नहीं है कि ....... एक साथ ब्रेन हैमरेज और हार्ट अटैक दोनो का ईलाज करवा सकूँ.......!!
सोर्स - WhatsApp.

2 टिप्पणियाँ:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बढ़िया जी :)

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’प्रकाश पर्व की शुभकामनाओं सहित ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...