इस ब्लाग परिवार के हमारे सदस्य साथी....

गुरुवार, 4 सितंबर 2014

साथ जीवनसाथी का...



भलें झगडें, गुस्सा करें, एक-दूसरे पर टूट पडें
एक-दूसरे पर दादागिरी करने के लिये
अन्त में हम दोनों ही होंगे.

जो कहना है वह कहले, जो करना है वह करले
पर एक-दूसरे के चश्मे और लकडी ढूंढने में
अन्त में हम दोनों ही होंगे.

मैं रुठूँ तो तुम मना लेना, तुम रुठो तो मैं मना लूंगा
एक-दूसरे को लाड लडाने के लिये
अन्त में हम दोनों ही होंगे.

आँखें जब धुँधली होंगी, याददाश्त जब कमजोर होगी,
तब एक-दूसरे को एक-दूसरे में ढूँढने के लिये
अन्त में हम दोनों ही होंगे.

घुटने जब दुखने लगेंगे, कमर भी झुकना बंद करेगी,
तब एक-दूसरे के पांव के नाखून काटने के लिये
अन्त में हम दोनों ही होंगे.

मेरी हेल्थ रिपोर्ट एकदम नार्मल है, आई एम आलराईट
कहकर एक-दूसरे को बहलाने के लिये
अन्त में हम दोनों ही होंगे.

साथ जब छूट जाएगा, बिदाई की घडी जब आ जाएगी
तब एक-दूसरे को माफ करने के लिये
अन्त में हम दोनों ही होंगे.

0 टिप्पणियाँ:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...